मित्रता

 

 

एक दिन एक भैंस घास चरते चरते एक गहन वन में चली गयी । वहाँ एक हिरणी से उसकी भेंट हुई ।

 

गिरनी ने भैंस से पूछा , “ तुम यहाँ कैसे आयी ? और क्यों आयी  ? ”

भैंस ने कहा , “ मैं घास चरते चरते यहाँ आ गयी । यह कौन सी जगह है ?  ”

हिरणी बोली , “ यह जंगल है, यहाँ तरह – तरह के जंगली,  हिंस्र जानवर हैं । यहाँ से भाग निकलना बहुत ही कठिन काम है ।  जल्दी भागो । ”

 

उसकी बात सुनकर भैंस ने कहा , “ लगता है तुम तृण भोजी हो। तुम भी क्या मेरी तरह भटकते – भटकते यहाँ आ गयी हो ?

तो तुम भी चलो मेरे साथ । नहीं तो जानवर तुम्हें भी नोच खाएँगे । हम तृण भोजी एक साथ रहेंगे । “

 

उसकी बात सुनकर हिरणी ने कहा , “ मैं तुम्हारे साथ नही जा सकती ।  मैं तो अरण्य की शोभा हूँ । अगर मैं ही चली जाऊँ तो अरण्य की चंचलता ख़त्म हो जाएगी।  मैं जब लता – गुल्म में आबद्ध हो जाती हूँ , तब वे भी मेरे साथ क्रीड़ा करते हैं ।

कोई अगर हमारे पीछे लग जाए, तो अरण्य में हल – चल मच जाती है ।  ”

 

“लेकिन तुम्हारे जीवन में भी तो ख़तरा है !?”

 

हिरणी ने कहा , “ जीवन है तो जोखिम है, बिना जोखिम के ज़िंदा रहना का आनंद कहाँ ? मैं यहाँ की ख़ुशबू हूँ,  यहाँ का

आनंद हूँ। मैं यहाँ का जीवन हूँ, यौवन हूँ। मैं यहाँ से कैसे जाऊँ । तुम जल्दी जाओ। गोशाला में तुम्हारे बछरे दूध के लिए तरस रहे होंगे । सावधानी से जाओ और अपना कर्तव्य निभाओ । मैं यहीं हूँ । अगर कोई ख़तरा हो, तो मैं, अपनी जान देकर भी तुम्हारी रक्षा करूँगी।  ”

 

“ दोनो बिछर गए परंतु मित्रता बिछरी नही ।। ”

 

*********************************************************

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s